Monday, March 22, 2010

उनका रुधिर उबलता होगा?


करतल ध्वनि, ललायित चेहरे, मनस पटल पर चलता होगा,
जो इतिहास मिटाते लिखते, उनका रुधिर उबलता होगा?


क्या विक्षुब्ध न होते होंगे? भाग्य-भाग्य न रोते होंगे?
या फिर देन ईश की कह दूँ, वो विशेष ही होते होंगे,
किस टकसाल ढले ? किस धातु ? जिनका सिक्का चलता होगा,
जो इतिहास मिटाते लिखते, उनका रुधिर उबलता होगा?


अवरोही अवलोकन कर्ता,करता चित्र शिखर संदर्भित ,
कैसे मानूँ उसी कथा को, जिसका सारगर्भ ही गर्वित;
अर्पित कर दूँ तर्क मैं; ताकि न प्रतिमान हो किंचित विचलित,
या कुतर्क में झोंक रहा हूँ, सत्य न हो जिससे परिलक्षित,
"निर्विचार" कर फिर विचार, क्या उदर कण्ठ तक जलता होगा ?
जो इतिहास मिटाते लिखते, उनका रुधिर उबलता होगा?


नहीं जपूँगा तेरी माला , क्यूँ पदचिह्न चलूँ तेरे,
क्या ये सब इसलिये किया था ताकि क्लोन बनें तेरे,
मुझे अँधेरे में रहने दो, कहने दो हत-उत्साहित,
क्या उत्साह है गाने में पर-शौर्य कथा होकर विक्षिप्त,
मुझसे न सँभले तेरा यश, तुझसे कहाँ सँभलता होगा।
जो इतिहास मिटाते लिखते, उनका रुधिर उबलता होगा?


तुम मुझसे 'यलग़ार' न कहना, तार-तार उत्तर दूँगा,
कीर्तिमान हो़! तू महान हो! मैं प्रचार भर कर दूँगा,
भर दूँगा मैं कान उन्हीं के, जीत तुम्हारी जीते जो,
मैं नैपथ्य करूँ पुरुषार्थ,वो करतल मुदित भले न हो,


पथ,प्रशस्त, आश्वस्त न होगा, 'रुपक' जिस पर चलता होगा,
जो इतिहास मिटाते लिखते, उनका रुधिर उबलता होगा?

'रुपक'
Feedback Form
Feedback Analytics