Friday, November 9, 2012

अंत न हो इस दौङ का


दीपक जलकर बुझ गये, बुझी न मन की आग;
सात पहर की वासना, एक पहर बैराग।

चकाचौंध की कौंध में , नयन-निलय आकाश;
फिरसे क्षितिज निहारते, बिसर गये क्या पास।

ख़ुशियाँ जैसे फुलझङी, संकट जैसे बम;
जितना भी बचते रहो, अभी फटेगा 'धम्म'

कोना कोना झाङकर आज बुहारा घूर;
फिर भी कुछ तो सङ रहा, बदबू है भरपूर।

जैसे तम निश्चिंत है , अनल ज्योति के पास;
वैसी भ्रष्टाचार की मची हुई बकवास।

उत्सव सुरा समान है, जब तक मिले न 'स्वर्ग'
कब आया कब चल दिया, उभर गये उत्सर्ग।

'रुपक' भी मदमस्त है, चल भागें उस ओर;
अंत न हो इस दौङ का, कभी मिले न छोर।

रुपेश पाण्डेय 'रूपक'

No comments:

Feedback Form
Feedback Analytics